खुद को नुकसान पहुचाने के कारण

अपने इच्छानुसार अपने शरीर को कष्ट पहुंचना ही आत्मक्षति कहलाती है

  • जैसे अत्यधिक मात्रा में दवाइयों का उपयोग 
  • जलाकर शारीरिक क्षति पहुंचना 
  • तेज धार की वस्तु को शरीर में घुसाकर  न खाने योग्य वास्तु को खाकर 
खुद को क्षति जानबूझकर सामान्य मानसिक स्थिति में किया जाता है आत्मक्षति के समय व्यक्ति अधिक मानसिक तनाव आंतरिक  या अधिक भावात्मक स्थिति में होने के कारण  करते है कुछ व्यक्ति इसकी योजना बनाते है और  अचानक कर लेते है |
कौन आत्मक्षति करता है -
  • यह किसी भी उम्र में हो सकती है लेकिम दस में से एक युवा किसी एक समय में आत्मक्षति  कर सकते है
  • महिलाये पुरुष की अपेक्षा अपेक्षा ज्यादा आत्मक्षति करती है
  • सामान लिंग तथा आसमान लिंग दोनों प्रकार के व्यक्ति यह कर सकते है 
  • आत्म क्षति सामूहिक भी हो सकता है 
  • बचपन में हुए शारीरिक मानसिक और लैंगिक शोषण भी एटीएम क्षति का कारन हो सकता है 
कारण -
  •  शारीरिक व् लैंगिक शोषण 
  • निरंतर उदासीनता 
  • आत्मग्लानि एव  अपने आप को बुरा समझना 
  • पारिवारिक एव  आपसी सम्बन्धो में असमानता 
आप को लगे की दूसरे व्यक्ति आप की अवहेलना करते है और आप को असहाय समझते है तथा आप अकेलापन महशुस करते है  आप को ऐसा लगेगा की आप कोई परिवर्तन नहीं ला सकते शराब व् अन्य नशीले पदार्थो का सेवन करना जिससे ऐसा प्रतीत होना की जिन्दंगी बस में नहीं है |
आत्मक्षति के बाद कैसा लगता है- आत्मक्षति के  द्वारा व्यक्ति अपने आप को दुःख पहुंचाकर अपनी भावनावो तथा  तनाव के तुरंत समाधान का जरिया बना  लेता है लेकिन ऐसा होता नहीं है 
आत्मक्षति करने वाले लोग मानसिक रोगी होते है आत्मक्षति को रोकने के लिए किसी साधारण व्यक्ति से सहायता लेना चाहिए और अपनी स्थिति के बारे में उसे बताना चाहिए जिससे वह आपकी इस व्यथा में कुछ मदद कर सके | 
अपनी मदद खुद करे  - आत्मक्षति करने की इच्छा कुछ समय बाद स्वतः समाप्त हो जाती है इस दौरान आपको निम्न कार्य करने होंगे 
  1. किसी शांत जगह एकाग्रता से मन को किसी ऐसे समय या स्थिति का स्मरण करे जो सुखद हो 
  2. अपना ध्यान बताने के लिए कही बहार घूमने जाये ,संगीत  सुने और ऐसा कार्य करे जिसमे आप की रूचि हो 
  3. यदि आप जिस स्थान पर है तो वह उपस्थित लोगो से आपको परेशानी हो तो वह से आप तुरंत हैट जाये 
  4. किसी भी अपने से बात कर सकते है | 
अपनी भावनाओ को व्यक्त करने के अन्य उपाय सोचिये जैसे मन को सकारात्मक कार्यो में लगाए ,अपना ख्याल रखे शारीरिक मालिश लाभकारी है और ठन्डे पानी में नहाना भी लाभकारी है
जब कोई आत्मक्षति करे उसकी मदद उसकी मदद कैसे किया जाता है - आत्मक्षति करने वाले व्यक्ति के साथ अच्छा व्यवहार  करे तथा उनके भावनाओ को सुने और उसके व्यवहार से गुस्सा न करे | 
  • जब कोई व्यक्ति आत्मक्षति करने की सोच रहा हो तो उनका ध्यान बताने की कोशिश करे 
  • उनके साथ जाकर ऐसे व्यक्ति से मिले जो उनकी सहायता कर सके 
  • उनको सामझाने  का प्रयास करे आत्मक्षति शर्मनाक निंदनीय नहीं है 
अगर आप किसी ऐसे व्यक्ति को देखे की वह आत्मक्षति करने की कोशिश कर रहा है तो उसकी हर संभव मदद करने की कोशिश करे जिससे की वह ऐसा न कर पाए | 


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ